Wednesday, August 5, 2009

जिन्दगी का गीत

जिन्दगी एक गीत है


इसे शायराना अंदाज़ में जिये


कब रुखसत होना पड़े ना मालूम


हर पल जी भर जिये


हर गमों को भुला


खुशियों को गले लगा लीजये


ना जाने कब जिन्दगी अलविदा कह दे


हँसते हँसते जी लीजिये


जिते जी हर तमना


हर ख्वाइस पूरी कर लीजिये

No comments:

Post a Comment