Monday, January 11, 2010

तुम को

यार तुमको भुला ना पाये

ख़ुद से ख़ुद को जुदा ना कर पाये

हसीन थी तेरी हँसि

उसको भुला ना पाये

तेरे संग बीते लहमों की

यादो से दूर ना जा पाये

तेरी कशीश को भुला ना पाये

तुझ से किए वादे को तोड़ ना पाये

तुम को अकेला छोड़ ना पाये

ख़ुद को तुम से जुदा ना कर पाये

दूर होके भी दूर हो ना पाये

यार तुम को भुला ना पाये

No comments:

Post a Comment