Tuesday, June 16, 2020

कहानी

कुछ कहानियाँ हमनें गढ़ी कुछ वक़्त ने लिखी l
तेरी पर जाने इन दोनों से क्यों जुदा जुदा सी थी ll

एक सहमी हुई ठिठकी सी जिंदगानी थी l
एक ठोकर से टूट गयी कोमल क्यारी थी ll

सुनने को तुझे आतुर हो रहा था मन l
इंतज़ार की लौ में पलकों में टहल रहा था मन ll 

बस उस रात सारी रात भींगते रहे हम l
तेरी कहानी सुनने सारी रात जगते रहें हम ll 

बेचैन थे उस रात के वो ठहरे हुए पल l
मुनासिब ना थे तेरे खामोश लफ्ज ll

क्या रह गुजर थी डोर एक बंधी थी l
बिखरते अरमानों को समेटने यह रात काफी ना थी ll

पास सिर्फ खंजर सी चुभती टूटी एक आस थी l
मकसद कोई ना था फिर भी एक जिंदगी की तलाश थी ll

समझ ना पाया मैं उन आँखों के तसब्बुर l
अल्फाजों को वयां करने की इजाजत ना थी ll

सैलाब का तूफ़ान लिया सा मंजर था l
प्रतीक टूटने व्याकुल धैर्य किनारा था ll

कहानी उस रात की यही अधूरी रह गयी l 
साँसे सारांश सब अजनबी बन गयी ll

No comments:

Post a Comment