Saturday, June 27, 2020

ओस की बूँद

नृत्य कर रही पंखुड़ियाँ भृंग साज 
बूबूल की टहनियों नीम हैं जैसे साज 

जुगनू रौशन रात हो रही निछावर 
सुगंध गंध महका रहा मनचला चितवन

मधुर बेला खोल रही उपवन टोली 
नज़राना दे रही पर्वतों की टोली 

खोल दूँ चुपके से अरमानों की झोली 
भर लूँ फेहरिस्त साँझ ठिठोली

सिलसिला चलता रहे पतंग मांझे की डोरी 
फिरता रहूँ गगन गगन परवाजों की डोरी 

सागर लहरें बहका रही मन चोरी चोरी 
किस करवटें लेटूँ आयतें हो ना जाय चोरी

पदचापों की धुन धुएँ की धुंध 
निकट आ रही सपनों की पुँज    

नृत्य कर रही पंखुड़ियों की धुन 
मदमस्त हो रही ओस की बूँद 

2 comments:

  1. आदरणीय शास्त्री जी
    रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया
    आभार
    मनोज

    ReplyDelete