Saturday, December 5, 2020

फ़िदा

तू इस शहर की सहर थी I
मैं उस शहर की शाम II

देखा तुझे यूँ अचानक जब अपने दालान I
यूँ लगा जैसे जेहन उतर आया कोई चाँद II

पूछ रहे तुम मुझ से मेरा ही पता I
दिल को भा गया मुसाफ़िर तेरा यह अंदाज़ II

पैगाम लबों पे उनके अब तलक ऐसे ख़ामोश था I
किसी खाब्ब को जैसे किसी चाँदनी रात का इंतज़ार था II

भूल गया पता अपना एक पल को I
ग़ुम हो गया इशारों की परछाई को II

कुछ पल वो ठहरे कुछ कहते कहते अटके I
फिर थमा दामन हाथों में हौले से चल दिए II

बेजान सा खड़ा मैं कुछ समझ ना पाया I
वो जोड़ गयी दिलों के तार कैसे समझ ना पाया II

बस उसकी मुस्कराहट पर फ़िदा हो आया II
बस उसकी मुस्कराहट पर फ़िदा हो आया II

19 comments:

  1. Replies
    1. आदरणीय सुशील जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-12-2020) को   "उलूक बेवकूफ नहीं है"   (चर्चा अंक- 3907)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शास्त्री जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  3. तू इस शहर की सहर थी I
    मैं उस शहर की शाम II

    वाह....👌

    ReplyDelete
  4. आदरणीय सिन्हा जी
    आपका बहुत बहुत धन्यवाद
    आभार

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. आदरणीय शिवम् जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  6. Replies
    1. आदरणीया ज्योती दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  7. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 06 दिसंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. आदरणीया दिव्या जी
    मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
    आभार

    ReplyDelete
  9. तू इस शहर की सहर थी I
    मैं उस शहर की शाम II
    वाह!!!!
    बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  10. Replies
    1. आदरणीय शांतनु जी
      शुक्रिया
      आभार

      Delete
  11. Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      मेरी रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया
      आभार

      Delete
  12. वाह मनोज जी ! बहुत ख़ूब !

    ReplyDelete