Friday, December 10, 2010

गलती

उस राह कभी ना जाता

जो कभी मेरी मंजिल ना थी

पर ह़र कदम सपने टूटते गए

कदम निराशा के भंवर में

खुद ब खुद गर्त की ओर चलते गए

ना किसी से कभी कोई गिला रही

ना किसी से कभी शिकायत रही

अपने कदम रोक ना पाया

उसमे औरों की क्या गलती थी

No comments:

Post a Comment