Thursday, March 26, 2020

पूर्णविराम

ध्वंश हो गयी ध्वनि बेला

कुदरत के नए तांडव गांडीव से आज

अभिलेख ऐसा लिखा मानव ने

कायनात अपनी ही रूह से महरूम होती जाय

प्रलय काल बन गयी सम्पूर्ण सृष्टि

विलुप्त हो रहे सारे नैसगर्गिक भाव

वरदान थी जो प्रकृति अब तलक

दफ़न कर नए उत्थान की बात

अभिशाप नरसंहार बेरहम बनती जाय

अपने अभिमान गुरुर में भूल मर्यादा रेखा को

लहूलुहान छलनी कर सीना सृजन दाता को

लिख दिया मानव कुंठा ने नया विपत्ति अध्याय

रूठ गयी कुदरत अपनी ही बेमिशाल रचना के

बिगड़ते बिखरते अजब गजब पैमानों से आज

नाग बन डस गये मानव को

उसके ही विनाशकारी हथियार आय

लग गया ग्रहण सम्पूर्ण सृष्टि पर

कायनात के इन पूर्णविरामों से आज

कायनात के इन पूर्णविरामों से आज  

9 comments:

  1. Replies
    1. आदरणीय शास्त्री जी

      रचना पसंद करने हेतु आपका शुक्रिया
      आभार
      मनोज

      Delete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक कीचर्चा शनिवार(२८-०३-२०२०) को "विश्व रंगमंच दिवस-रंग-मंच है जिन्दगी"( चर्चाअंक -३६५४) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय अनीता जी

      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

      आभार
      मनोज

      Delete
  3. सामयिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ओंकार जी

      धन्यवाद
      आभार
      मनोज

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय सुमन जी

      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार
      मनोज

      Delete
  5. आदरणीया/आदरणीय आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर( 'लोकतंत्र संवाद' मंच साहित्यिक पुस्तक-पुरस्कार योजना भाग-२ हेतु नामित की गयी है। )

    'बुधवार' ०१ अप्रैल २०२० को साप्ताहिक 'बुधवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य"

    https://loktantrasanvad.blogspot.com/2020/04/blog-post.html

    https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'बुधवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।


    आवश्यक सूचना : रचनाएं लिंक करने का उद्देश्य रचनाकार की मौलिकता का हनन करना कदापि नहीं हैं बल्कि उसके ब्लॉग तक साहित्य प्रेमियों को निर्बाध पहुँचाना है ताकि उक्त लेखक और उसकी रचनाधर्मिता से पाठक स्वयं परिचित हो सके, यही हमारा प्रयास है। यह कोई व्यवसायिक कार्य नहीं है बल्कि साहित्य के प्रति हमारा समर्पण है। सादर 'एकलव्य'

    ReplyDelete