Friday, August 14, 2020

अजनबी महरबा 

देख मुझे ऑनलाइन तुम ऑफ लाइन हो जाती हो l

डीपी बदलते ही सबसे पहले लाईक कर जाती हो ll


व्हाटस एप स्टेटस हो या फेस बुक l

कमेंट के नाम ठेंगा दिखा जाती हो ll


तुम कहती हो कोई खास रूचि नहीं l

फिर भी मेरी तस्वीरों को डाउनलोड करती जाती हो ll


भूल गयी तुम टेक्नोलॉजी ने युग बदल डाली हैं l

प्रोफाइल विजिट की ईमेल तुरंत मुझको पंहुचा जाती हैं ll


कैसे निहारु तुझे ऐ अजनबी महरबा l

तूने अपनी डीपी में भी तस्वीर मेरी जो लगा डाली हैं ll

6 comments:

  1. आदरणीय विश्व मोहन जी
    आपका बहुत बहुत शुक्रिया
    आभार

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. आदरणीय सुशील जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार
      मनोज

      Delete
  3. तकनिकी और कविता ... अच्छा सामजस्य बैठाया है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिगंबर जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete