Monday, December 7, 2020

तज़ुर्बा

तज़ुर्बा ना पूछ ए सोखियाँ l
झुरिआ वयां रही ख्यालों की लड़ियाँ ll

बदल गयी जो रंग जुल्फ़ों के l
वो चाँदनी कम ना थी औरों से ll

लिखें हैं उन्हें खत लाखों हटेलिओं में l
मुरीद थी निगाहें जिनकी परवाज़ों में ll

सुरूर उस साकी का औरों से दूजा था l
हिना सी महकती गुलबदन का आसमां और था ll

कभी पर्दा कभी बेपर्दा अटखेलियाँ करती बेपरवाह l
जादू सा सम्मोहन वश करती उसकी नादानियाँ ll

फ़िसल गए वो वक़्त दरख़्तों की गहराई में l
खुमारी फिर भी उतर ना पायी दिल की गहराई से ll

जिन्दा वो आज भी हैं साँसों की सच्चाई में l
बेताबी वही हैं धड़कनों की परछाई में ll

बेताबी वही हैं धड़कनों की परछाई में l
बेताबी वही हैं धड़कनों की परछाई में ll

26 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 08 दिसंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया यशोदा दीदी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  2. .....

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 9 दिसंबर 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया पम्मी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  3. बहुत ही सुंदर सृजन ।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय सुशील जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीय शांतनु जी
      शुक्रिया
      आभार

      Delete
  6. Replies
    1. आदरणीया विभा दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  7. सुंदर भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया शरद दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  8. Replies
    1. आदरणीया शुभा दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  9. जादू सा सम्मोहन.... उम्दा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  10. सुंदर मनोहारी रचना..।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  11. फ़िसल गए वो वक़्त दरख़्तों की गहराई में l
    खुमारी फिर भी उतर ना पायी दिल की गहराई से ll

    जिन्दा वो आज भी हैं साँसों की सच्चाई में l
    बेताबी वही हैं धड़कनों की परछाई में ll

    बहुत खूब!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कविता दीदी जी
      आपका बहुत बहुत शुक्रिया
      आभार

      Delete
  12. सुन्दर , अति सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      मेरी रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया
      आभार

      Delete
  13. बहुत ही सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सघु दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete