Wednesday, February 3, 2021

खनक

चूड़ियाँ गिनने बैठा उसकी कलाई की l
खनक उतर गयी दिल गहराई की ll

राज़दार उसकी आँखे बन गयी l
तसब्बुर में जलते अँगारों सी ll

दफ़न अब तलक सीने में थी जो चिंगारी l 
सोहबत में उसकी रजा बन गयी परछाई की ll 

रंगरेजन रंग गयी हौले से तन्हाई को l
महक उठी हीना जीने शहनाई को ll

पहन ली ताबीज़ बना उसके झाँझर के झंकारों की l 
घुल गयी रातों में मिठास आगोश में सितारों सी ll

शरमा सिमट रही वो खुद के आँचल से ऐसे l
सकून भरी करवटों में मिला साथ चाँद का जैसे ll

लकीरें हाथों की सलवटें माथे की l
स्याह घुल रही जिस्म भींगी रातों सी ll 

नादानियाँ भरी शोखियाँ थी उस चंचल काया की l
निखर आयी साँझ रंग भरे यादों के साये सी ll

रंग भरे यादों के साये सी l
रंग भरे यादों के साये सी ll

38 comments:

  1. आदरणीय यशवंत भाई साब
    आपका बहुत बहुत धन्यवाद
    आभार

    ReplyDelete
  2. सुंदरतम..

    सादर प्रणाम

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया दीदी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  3. अति सुन्दर सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय विश्वमोहन जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  5. उम्दा अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  6. Replies
    1. आदरणीय शिवम् जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  7. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साब
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete

  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ५ जनवरी २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया स्वेता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  9. Replies
    1. आदरणीय शास्त्री सर
      आपसे बहुत कुछ सिखने मिला हैं , शब्द कम हैं धन्यवाद करने के लिए , आशा हैं भविष्य में भी आपका मार्गदर्शन मिलता रहेगा .
      आभार

      Delete
  10. वाह!!!
    बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी
      दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  11. बहुत सुंदर। आपको शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय वीरेन्द्र जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  12. चूड़ियाँ गिनने बैठा उसकी कलाई की।
    खनक उतर गयी दिल गहराई की ।।
    वाह भाई वाह! खूबसूरत शुरूआत के साथ सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      तहे दिल से आपका शुक्रिया
      आभार

      Delete
  13. बहुत सुंदर,लाजवाब रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  14. वाह
    बहुत सुंदर रचना
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय खरे जी
      तहे दिल से आपका शुक्रिया
      आभार

      Delete
  15. बेहतरीन रचना, एहसासो सी भरी हुई

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  16. Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  17. Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      तहे दिल से आपका शुक्रिया
      आभार

      Delete
  18. Replies
    1. आदरणीय जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  19. कितने सुंदर भाव भरे हैं आपने इस रचना में
    बार बार पढ़ा, काफी अच्छा लगा .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय संजय जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete