Thursday, March 26, 2020

पूर्णविराम

ध्वंश हो गयी ध्वनि बेला

कुदरत के नए तांडव गांडीव से आज

अभिलेख ऐसा लिखा मानव ने

कायनात अपनी ही रूह से महरूम होती जाय

प्रलय काल बन गयी सम्पूर्ण सृष्टि

विलुप्त हो रहे सारे नैसगर्गिक भाव

वरदान थी जो प्रकृति अब तलक

दफ़न कर नए उत्थान की बात

अभिशाप नरसंहार बेरहम बनती जाय

अपने अभिमान गुरुर में भूल मर्यादा रेखा को

लहूलुहान छलनी कर सीना सृजन दाता को

लिख दिया मानव कुंठा ने नया विपत्ति अध्याय

रूठ गयी कुदरत अपनी ही बेमिशाल रचना के

बिगड़ते बिखरते अजब गजब पैमानों से आज

नाग बन डस गये मानव को

उसके ही विनाशकारी हथियार आय

लग गया ग्रहण सम्पूर्ण सृष्टि पर

कायनात के इन पूर्णविरामों से आज

कायनात के इन पूर्णविरामों से आज  

Friday, March 20, 2020

बेबस नारी

सहम जाती हूँ परछाई से भी अपनी

नुमाईस लगा रखी हैं अंधकार ने इतनी

शुष्क लबों को डरा रही

आहट पद्चापों की अपनी

कितनी व्यतिथ यह जिंदगानी हैं

हर गली चौराहों नुक्कड़ पे

शाम ढले यही कहानी हैं

वहशी दरिंदों की नजरों ने पहनी

हैवानियत हवस की लाली हैं

चीरती कोई चीख वीरान सन्नाटे को

हृदयगति एक पल को ठहरा जाती हैं

कितनी बेबस बना दिया कुनबे ने

अपने ही साये से सहमी रहती हर नारी हैं 

अपने ही साये से सहमी रहती हर नारी हैं  

Wednesday, February 12, 2020

तेरा शहर

नाता तेरे शहर से पुराना  हैं 

उस बरगद का अफसाना आज का फ़साना सा हैं

दरमियाँ जो समेट ली थी चाहतें

वो तो बस मुलाक़ात का एक बहाना हैं

गुजरू जब कभी तेरे शहर की गलियों से

लगे आज भी चमन खिल आया

मानों पीपल की टहनियों पे

पसरी जहां मेरे शाम की इबादत हैं

तेरे साये में वहा आज भी मेरे रूह की ही हुकूमत हैं

चौखट दहलीज की कभी लाँघ ना पाया

डोली तेरी किसी और किनारे छोड़ आया

फिर भी अपने आँगन से तेरी खनख विदा ना कर पाया

ना ही तेरे वजूद को खुद से रुखसत कर पाया

और उन शबनमी यादों की मिठास में

तेरे शहर से ही रिश्ता निभाता चला आया 

Friday, January 31, 2020

याददाश्त

तेरी यादों के चिलमन को छोड़ 

बाक़ी याददाश्त खाली खाली हैं 

ओ रहगुज़र हमसफ़र 

इन आँखों में नींद कम 

तेरे इश्क़ की ख़ुमारी भारी हैं 

किताबों के पुराने सूखे फूलों में 

तेरी यादों की महक आज भी बाकी हैं 

यादों के झरोखे में बस तेरे नूर की ही चाँदनी हैं 

बाकी याददाश्त तो बस खाली खाली हैं 

समझौते हैं कुछ बदनाम राहों के 

किस्से हैं कुछ इश्क़ की गालियारों के 

अरमान फिर भी सजे हैं तेरी ही यादों के 

फरियाद अब ओर नहीं यादों की 

छोड़ तेरी चिलमन को याद नहीं यादों की  

Wednesday, January 29, 2020

शामें

गीत ग़ज़लों मैं अपनी शामें आबाद करता हूँ

आफ़ताब के सुनहरे नूर को

चाहतों का पैगाम लिखता हूँ

ख्यालों से निकल आँखों में उतर आयी

उस महजबी को सलाम लिखता हूँ

गुले गुलशन एहतराम लिखता हूँ

काफ़िले तारुफ़ के तरानों में

नजरानों की सौगात लिखता हूँ

इन बेजान धड़कनों से

उस पाक ए रूह को फ़रियाद लिखता हूँ

सारी सारी रात करवटों में

खुद से खुद बात करता हूँ

सुरमई छुईमुई उसकी पलकों में

नींदे अपनी तलाश करता हूँ 

गीत ग़ज़लों मैं अपनी शामें आबाद करता हूँ

Thursday, January 9, 2020

मधुमास

बेवफ़ाई की आँधी नजरों के आगे

ढाह गयी गर्द का अंबार

सुबह की सुनहरी धूप को

ग्रहण लगा बना गयी अमावस की रात

ग़म की तन्हाई सिर्फ़ अश्रु मंजरों का साथ

 ना कोई तारे ना ही सितरों का पैगाम

काफ़ूर हो गया नशा इश्क़ का

मदहोश सुरूर आया ना कोई काम

सहेली साँझ की थमा गयी हाथों में जाम

पर पैसों की खनक में खो गयी

दिलबरों के रूह के मिलन की रात

खुदगर्ज बन नीलाम होती वफ़ा चाहते

हरम की गलीयों सा विचलित कर गयी मधुमास

हरम की गलीयों सा विचलित कर गयी मधुमास

Thursday, December 26, 2019

सत्य की पहचान

ख़ोज रहा हूँ असत्य में सत्य की पहचान को

इस आबोहवा में लौ चिंगारी की आगाज़ को

कमसिन उम्र परिंदों सी छटपटाहट

हर लफ़्ज़ों से अँगार हैं बरसे

गहरे कोहरे घनघोर अँधेरे

तमाशबीन खड़े हैं समय घेरने

उन्माद हिंसक ज्वलंत प्रकरण

नए रूप में उभरा हैं रावण

होलिका दहन ताण्डव रूप धरे नवयौवन

रक्त होली बीच गुम हो गया बचपन

चल रहा असत्य हर घर हर गली गली

आराध्य बन पूज रही घृतराष्ट्र की टोली

करने इस कुरुक्षेत्र पटककथा का पटाक्षेप

पुकार रही सत्य के शंखनाद की आवाज़  

पुकार रही सत्य के शंखनाद की आवाज़