Friday, December 4, 2009

याद में

मुमताज जो तुम होती

शाहजहाँ मैं होता

तेरी भी याद में

एक ताजमहल बना होता

No comments:

Post a Comment