Tuesday, December 22, 2009

चिंतामणि

है प्यारे बड़े ही चिंतामणि

चिंता से ये कभी मुक्त होते नहीं

नाम पड़ा इसीलिए चिंतामणि

ख़ुद की चिंता इनको सताती नहीं

देख दूसरों की खुशिया

मारे चिंता नींद इनको आती नहीं

ऐसे है अपने प्यारे श्रीमान चिंतामणि

No comments:

Post a Comment