Tuesday, February 2, 2010

सब्र

पल इन्तजार के खत्म होते नहीं

ज्यौं ज्यौं समय लगे बीतने

त्यौं त्यौं इन्तजार लगे बड़ने

पल पल लगने लगे सदी समान

जितना ज्यादा इन्तजार

उतना ही ज्यादा इन्तजार

इसलिए करो सब्र से इन्तजार

मीठा लगने लगेगा इन्तजार

No comments:

Post a Comment