Friday, December 10, 2010

आपसे

नजरे मिला नजरे चुराना कोई आपसे सीखे

रोते दिलों को हसना कोई आप से सीखे

काँटो में रह के भी

गुलाब की तरह मुस्काना कोई आप से सीखे

No comments:

Post a Comment