Friday, December 10, 2010

नयी राह

यादों ने तेरी फिर अलख जगा दी

पैगाम ने तेरे बुझते दिए को लो थमा दी

शमा ने जीने की

नयी राह दिखला दी

No comments:

Post a Comment