Monday, March 1, 2021

बिछड़न

बंदिशों की डोर से हम ऐसे बंध गए l
उलझनों में उलझ उनकी तारुफ़ को तरस गए ll

सिलसिला खतों का जाने कहाँ गुम हो गया l
मुँडेर से जैसे पतंगों का माँझा कट गया ll

खनखियों से बातें करना दूर से आहें भरना l 
सपनों में सपनों को छू जिंदादिली से जीभर जीना ll

मन्नतों के धागों में उनके लिए फरियाद करना l
नुक्कड़ से ही उनकी दहलीज़ पर नज़र रखना ll

रिवाजों ने दौर के इस तरन्नुम को बदल दिया l
एक अदद हसीं को भी दिल खुद से मुकर गया ll

प्रतिशोध अग्नि जल रहा तन का मन l
भटक गयी नींद की करवटें दर बदर ll

प्रतिघात यह दे गया बिछड़न का गम l
संगनी संग छूट गया जाने कौन से पहर ll    

26 comments:

  1. बहुत खूबसूरत

    ये बात घटी होगी कभी इक़ पहर सी
    ज़िन्दगी तब से गुज़र रही है क़हर सी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय जी
      हौशला अफ़ज़ाई के आपके अंदाज़ ने दिल छू लिया , तहे दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete

  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 3 मार्च 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया पम्मी दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  3. भावपूर्ण काव्य ....
    साधुवाद 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया वर्षा दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  4. सुंदर भावों का अप्रतिम वर्णन ..समय मिले तो मेरे ब्लॉग पर भी भ्रमण करें..सादर..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  5. बहुत सुंदर भाव, सुंदर काव्य सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय अरविंद जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  6. बहुत खूब।हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय जयकृष्ण जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  7. Replies
    1. आदरणीया कविता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  8. बेहतरीन रचना, बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  9. बहुत सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  10. रिवाजों ने दौर के तरन्नुम को वाक़ई बदल दिया है मनोज जी । प्रशंसनीय है आपकी अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय जितेन्द्र जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  11. भावों की बढ़िया अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कुमार जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  12. बहुत सुन्दर सराहनीय

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  13. बहुत ही बढ़िया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete