Sunday, March 7, 2021

संस्कार

धरोहर जो मिली विरासत में l
मेरुदंड सँवार लूँ संस्कारों में ll

गुंजयमान रहे पल प्रतिपल l 
प्रतिध्वनि चेतना संस्कारों की ll

ज़िक्र चलता रहे सदियों तलक l
संस्कृति उद्धभव से उथानों की ll

परिधि कोई इसे बाँध ना पाए l
प्रतिलिपि इसके पायदानों की ll 

सहेजू दास्तानें उस सुन्दर लेखनी की l 
टूट गयी ज़ंजीरें ग़ुलामी अविव्यक्ति की ll

विद्धेष अग्नि ज्वाला आतुर हो ना कभी l
विपरीत दिशा बहे प्रतिशोध कामना इसकी ll

लौ मशाल तमस चीरती रहे अज्ञानी की l
उम्मीद सृष्टि बँधी रहे अनुकूल किरणों की ll 

परिवेश सुगम सरल हो प्रावधानों की l
बहती रहे गंगा सुन्दर संस्कारों की ll

34 comments:

  1. सुंदर संदेशपूर्ण भावों भरी रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      सादर

      Delete
  2. बहुत सुन्दर सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      सादर

      Delete
  3. Replies
    1. आदरणीय शास्त्री सर
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साब
      दिल सै शुक्रिया
      आभार

      Delete
  5. बहुत सुन्दर लेखन सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया प्रीति दीदी जी
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद
      सादर

      Delete
  6. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 08 -03 -2021 ) को 'आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है' (चर्चा अंक- 3999) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय रविंद्र जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए शुक्रिया
      आभार

      Delete
  7. बेहतरीन रचना, बहुत बहुत बधाई हो आपको, महिला दिवस की बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      आपको भी महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनायें , मेरी रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  8. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ओंकार जी
      आपका तहे दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  9. लौ मशाल तमस चीरती रहे अज्ञानी की l
    उम्मीद सृष्टि बँधी रहे अनुकूल किरणों की ll

    परिवेश सुगम सरल हो प्रावधानों की l
    बहती रहे गंगा सुन्दर संस्कारों की ll

    बहुत खूब,लुप्त हो रही संस्कारों की लौ को फिर से जलाना जरुरी है।
    बेहतरीन सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कामिनी दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत रचना... मनोज जी ,

    परिधि कोई इसे बाँध ना पाए
    प्रतिलिपि इसके पायदानों की
    सहेजू दास्तानें उस सुन्दर लेखनी की
    टूट गयी ज़ंजीरें ग़ुलामी अविव्यक्ति की ...वाह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अलकनन्दा दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  11. बहुत सुंदर रचना लिखी आपने ने। बधाई आपको।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय वीरेन्द्र भाई साब
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  12. बहुत सुंदर सृजन
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग को भी फॉलो करें
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ज्योति भाई साब
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  13. .....परिधि कोई इसे बाँध ना पाए..

    सच में संस्कारों की कोई परिधि नहीं
    बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय अमित भाई साब
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  14. संस्कारों की सुंदर कामना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कुमार जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  15. परिवेश सुगम सरल हो प्रावधानों की l
    बहती रहे गंगा सुन्दर संस्कारों की ll
    वाह!!!
    सुन्दर कामना के साथ लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  16. Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  17. बेहद खूबसूरत सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete