Saturday, March 13, 2021

पैबंद

ज़ख्मों के पैबंद सिलने भटकता रहा मैं l
अश्कों की कभी इस गली कभी उस गली ll 

डोर वो तलाशता रहा ढक दे जो पैबंद की रूही l 
दिखे ना दिल के जख़्म छुपी रहे सिलन की डोरी ll

ख़ामोशी लिए लहू रिस रहा तन के अंदर ही अंदर l
बुझा दे प्यास पानी इतना ना था समंदर के अंदर ll

मरुधर तपिश सी जल रही तन की काया l
बरगद से भी कोशों दूर थी चिलमन की माया ll

दृष्टिहीन बन गूँथ रहा ख्यालों की माला l
मर्ज़ निज़ात मिले भटकते रूह को साया ll

टूट गया तिल्सिम ताबीज़ के उस नूर का भी l 
बिन आँसू रो उठी पलकों पे जब तांडव छाया ll

लुप्त था धैर्य विश्वास ना था अब गतिमान l
डूब गया प्रहर डस गया इसको तम का आधार ll

सी लूँ पैबंद किसी तरह दिल के बस एक बार l 
छोड़ जाऊ तन का साया इसका फिर क्या काम ll   

44 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 14 मार्च 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिग्विजय जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद
      आभार

      Delete
  2. बहुत सुन्दर रचना, बधाई.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जेन्नी दीदी जी
      रचना पसंद करने के लिए आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  3. Replies
    1. आदरणीय शिवम् जी
      मेरी रचना पसंद करने के लिए शुक्रिया
      आभार

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय विमल भाई साब
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साब
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  6. वाह!!!
    बहुत सुन्दर...।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  7. सुंदर भावों का अनूठा सृजन..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  8. वाह, सुन्दर सृजन, सुन्दर भाव

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुरेंद्र जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  9. बेहतरीन रचना, खूबसूरत भाव, बहुत बहुत बधाई हो, हार्दिक आभार,ब्लॉग पर आने के लिए तहे दिल से शुक्रिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  10. ओह , अश्कों और ज़ख्मों से लबरेज़ रचना ।
    मार्मिक भाव ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया संगीता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  11. सुन्दर भाव प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
    2. सी लूँ पैबंद किसी तरह दिल के बस एक बार
      छोड़ जाऊ तन का साया इसका फिर क्या काम।
      भावों की प्रस्तुति अच्छी है।

      Delete
    3. आदरणीया मीना दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  12. सी लूँ पैबंद किसी तरह दिल के बस एक बार l
    छोड़ जाऊ तन का साया इसका फिर क्या काम ll ।बहुत सुंदर दिल को छू लेने वाली लाईने आप की लेखनी को नमन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मघुलिका दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  13. बहुत बढ़िया लिखे हो मनोज जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय विरेन्द्र जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  14. Replies
    1. आदरणीया उर्मिला दीदी जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  15. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  16. वाह मार्मिक चित्रण

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सरिता दीदी जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  17. उम्दा अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  18. सी लूँ पैबंद किसी तरह दिल के बस एक बार
    छोड़ जाऊ तन का साया इसका फिर क्या काम।
    बहुत ही भावपूर्ण लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete
  19. बहुत भावपूर्ण ... खूबसूरत शेर हैं सभी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिगम्बर जी
      हृदयतल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  20. आपकी इस कविता का पहला छंद ही उस दर्द को बयां कर देता है मनोज जी जो इसके हर लफ़्ज़ में भरा है : ज़ख्मों के पैबंद सिलने भटकता रहा मैं, अश्कों की कभी इस गली कभी उस गली । मैं उन जज़्बात को महसूस कर सकता हूँ जिनसे ये अशआर वाबस्ता हैं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय जीतेन्द्र भाई साब
      शब्द कम है आपका शुक्रिया कहने को, दिल से आभार

      Delete
  21. बेहतरीन लेखन..
    सादर प्रणाम..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया दीदी जी
      आपका दिल से शुक्रिया
      आभार

      Delete