Wednesday, October 20, 2021

पदचाप

बारिश में उसके पदचापों की सुर ताल l
खनक रही जैसे अशर्फियों की तान ll

उतावले बादल आतुर घटाओं के साथ l 
रुनझुन रुनझुन बरसा रहे मेघों अंदाज़ ll

उलझता चला गया छोटा सा दिल ए बेक़रार l 
देख उसकी भींगी भींगी सुलझी सुलझी चाल ll  

जुल्फों से उसके टपकती पानी की लार l
जी चुरा ले गयी हौले से होठों के अल्फ़ाज़ ll

मयूर मन नाचते उनके क़दमों की आवाज़ l
घोल रही बारिश में पाजेब की मीठी झंकार ll

तरंग सी इठला रही इस बारिश की बूँदे कुछ खास l 
मिल सिमट रही उनकी झुकी पलकें जब आस पास ll 

बारिश में उसके पदचापों की सुर ताल l
खनका रही इस रूमानी रूह के सुर ताल ll

खनका रही इस रूमानी रूह के सुर ताल l
खनका रही इस रूमानी रूह के सुर ताल ll
 

28 comments:

  1. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साहब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों से उत्साहित करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार....
      सादर

      Delete
  2. बहुत ही सुन्दर...
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार(२१-१०-२०२१) को
    'गिलहरी का पुल'(चर्चा अंक-४२२४)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  4. खूबसूरत सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ओंकार भाई साहब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों से उत्साहित करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार....
      सादर

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  6. Replies
    1. आदरणीय गगन भाई साहब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों से उत्साहित करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार....
      सादर

      Delete
  7. Replies
    1. आदरणीया ज्योति दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २२ अक्टूबर २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया स्वेता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  9. Replies
    1. आदरणीया मनीषा दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  10. सुंदर एहसास बारिश के साथ।
    अभिनव सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कुसुम दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  11. Replies
    1. आदरणीय हरीश भाई साहब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों से उत्साहित करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार....
      सादर

      Delete
  12. उतावले बादल आतुर घटाओं के साथ l
    रुनझुन रुनझुन बरसा रहे मेघों अंदाज़ ll
    अत्यंत सुंदर और मनमोहक सृजन अनुज ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  13. बारिश में उसके पदचापों की सुर ताल l
    खनक रही जैसे अशर्फियों की तान ll
    मन के सुकोमल एहसास सुमधुर अभिव्यक्ति प्रिय मनोज।👌👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया रेणु दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  14. रुनझुन रुनझुन बरसा रहे मेघों अंदाज़
    अत्यंत सुंदर और खूबसूरत सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय संजय भाई साहब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों से उत्साहित करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रगुज़ार....
      सादर

      Delete