Thursday, October 28, 2021

चाँद और इश्क़

देखा हैं चाँद को चुपके से अकेले में मुस्काते हुए l  
रूप बदल बदल चाँदनी को इसकी इतराते हुए ll

दीवाने हुए हम भी उस चौदहवीं के चाँद के l
ज़माना आतुर जिसके एक दीदार के लिए ll

फलक तलक गूँज रही इसकी ही गूँज हैं l
अर्ध चाँद का अक्स इश्क़ का ही नूर हैं ll

ग्रहण लगे चाँद की छाया, जब से देखि पानी में l 
मोहब्बत हो गयी तबसे इसके काले काले तिल से ll

दिल लगा जब से इसके दिलजले ख्वाबों से l
तन्हा रह गए हम भरी सितारों की महफ़िल में ll

जोरों से दिल हमारा भी खिलखिला उठा तब l
पकड़ा गया चाँद जब चोरी चोरी निहारते हुए ll

रुखसार से अपने बेपर्दा होते हुए देखा है हमने l
चाँद को चुपके चुपके अकेले में मुस्कराते हुए ll

चाँद को चुपके चुपके अकेले में मुस्कराते हुए l
चाँद को चुपके चुपके अकेले में मुस्कराते हुए ll

13 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार(२९-१०-२०२१) को
    'चाँद और इश्क़'(चर्चा अंक-४२३१)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २९ अक्टूबर २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया स्वेता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  3. Replies
    1. आदरणीया विभा दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  4. सुंदर, शानदार गजल, हर शेर चांद की खूबसूरती पे कुछ कहता हुआ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  5. जोरों से दिल हमारा भी खिलखिला उठा तब l
    पकड़ा गया चाँद जब चोरी चोरी निहारते हुए ll
    वाह!!!
    चाँद और इश्क...
    बहुत ही सुंदर गजल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  6. देखा हैं चाँद को चुपके से अकेले में मुस्काते हुए l
    रूप बदल बदल चाँदनी को इसकी इतराते हुए l',,,,,,,, बहुत सुंदर रचना,आपकी लेखनी कमाल है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मधुलिका दीदी जी
      सुन्दर प्रेरणा दायक शब्दों से होंसला अफजाई के तहे दिल से आपका शुक्रिया
      सादर

      Delete
  7. Whether you’re on the lookout for basic slots 온라인카지노 or video slots, they're all free to play. House of Fun free 3D slot games are designed to provide essentially the most immersive slot machine expertise. You don't need special glasses to play these games, but the impact is similar to watching a 3D movie. These kinds of free slots are excellent for Funsters who actually wish to sit back and benefit from the full on line casino sensation.

    ReplyDelete