Wednesday, April 20, 2022

कल्पनाशील

उलझी उलझी थी मोहब्बत मेरी उसके दिल की गली गली l
संगेमरमर सी ताज महल बन गयी वो यादों की गली गली ll

खुशनुमा हो जाते थे तरन्नुम के वो कुछ खास से पल l
छत पर जब नजर आ आती थी उसकी एक झलक ll

कसीदें उसके तारूफ में भेजा करते जब आसमाँ साथ में l
मेघों की लड़ियों भी सज जाती उसकी कर्णफूलें शान में ll

कलाई से बंधे धागों सी कोई कशिश थी इन चाहतों के बीच l
हथेलियों पर लिखी कोई इबादत थी जैसे इन लकीरों के बीच ll

करवटों की लिहाफ़ से हो जाती थी करारी तकरार सी l
चाँद जब जब उतर आता था मेरे झरोखे दालान भी ll

बड़ा मीठा सा रूमानी था कल्पनाशील का वो आशिकी मिजाज़ भी l
निभाने दस्तूर ख्यालों से निकल वो चले आते थे ख़्वाबों पास भी ll

अवदान उनकी उस मुस्कान का ही था मेरी उड़ानों के बीच l
जिक्र सिर्फ जिनकी आँखों का ही था मेरी किताबों के बीच ll

10 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 21-04-22 को चर्चा मंच पर चर्चा - 4407 में दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति चर्चाकारों का हौसला बढ़ाएगी
    धन्यवाद
    दिलबाग

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिलबाग भाई साहब
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए आपका दिल से शुक्रिया l

      Delete
  2. करवटों की लिहाफ़ से हो जाती थी करारी तकरार सी l///
    कल्पना की ऊँची उड़ान बहुत प्रभावी है प्रिय मनोज जी। हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

    ReplyDelete
  3. आदरणीया रेणु दीदी जी
    सुन्दर शब्दों से हौसला अफजाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया l

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावपूर्ण सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौसला अफजाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया l

      Delete
  5. कलाई से बंधे धागों सी कोई कशिश थी इन चाहतों के बीच l
    हथेलियों पर लिखी कोई इबादत थी जैसे इन लकीरों के बीच.... वाह!बहुत सुंदर अनुज 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौसला अफजाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया l

      Delete
  6. करवटों की लिहाफ़ से हो जाती थी करारी तकरार सी l///
    वाह!!!!
    क्या बात..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौसला अफजाई के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया l

      Delete