Friday, July 1, 2022

साँझा दर्द

छिपाने अश्कों याराना बारिशों से मैंने कर ली l
मेघों की बिखरती बूँदों से दर्द भी साँझा कर ली ll


शिकवा रहे ना खुद से किसी बेरुखी का l
काले बादलों में हबीबी की नूर तराश ली ll


हौले से अधूरे ख्वाब बेच जाती नींद पलकों में l
कोलाहल सागर मल्हारों यही थी जो छुपा लाती ll


रुखसत होने इस अश्रु व्यंग परिहास ज़ख्मों से l
बूँदों की फुसफुसाहट ताबीर इसकी बना डाली ll


फिदा बारिशों के इस संगम मनुहार पर l
धारा अश्कों मेहरान घटायें सिमट आती ll

16 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शनिवार (02-07-2022) को चर्चा मंच     "उतर गया है ताज"    (चर्चा अंक-4478)     पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार कर चर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शास्त्री जी सर

      आप गुणीजनों का आशीर्वाद बना रहे और आपके मंच पर स्थान मिलता रहे इससे ज्यादा सौभाग्य की बात मेरे लिए और हो नहीं सकती, आपका शुक्रगुजार हूँ

      Delete
  2. Replies
    1. आदरणीया दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  3. हौले से अधूरे ख्वाब बेच जाती नींद पलकों में l
    कोलाहल सागर मल्हारों यही थी जो छुपा लाती... वाह!बहुत ही सुंदर सृजन अनुज।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  4. हमेशा की तरह बहुत सुन्दर भावों की अभिव्यक्ति अनुज ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  5. बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  6. हौले से अधूरे ख्वाब बेच जाती नींद पलकों में l
    कोलाहल सागर मल्हारों यही थी जो छुपा लाती..
    वाह!!!
    बहुत ही सुंदर ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  7. शुभ प्रभात बन्धु!
    बहुत सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आतिश भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  8. कितनी मुलायमियत है आपके जज़्बातों में! वाह! बहुत ख़ूब!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय विश्वमोहन भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete