Monday, October 24, 2022

दीपावली

दीपावली दीपोत्सव सारांश संक्षेप में l

आहुति आभा से रोशन तम का मंडल ll


भोग चौदह वर्षों का कठिन वनवास l

काल मृत्युंजय रावण का कर संहार ll


सुन रघुवर अपनों की आराधना पुकार l

अवतारी चले आये थामे माता का हाथ ll


प्रीत किरण पुंज से चमकते धूमकेतु से l

शिरोधार्य इस मंगल बेला जन कल्याण ll


पिरो लडिया सुन्दर जगमग करते दीपों सी l

उत्सर्ग कर रहा संसार वैमनस्य अंधेरों की ll

17 comments:

  1. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ l

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ l

      Delete
  2. बहुत सुन्दर सृजन । दीपोत्सव पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  3. आदरणीया मीना दीदी जी
    सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद l
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ l

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. आदरणीय ओंकार भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  5. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार(२६-१०-२०२२ ) को 'बस,अपने साथ' (चर्चा अंक-४५९२) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिए तहे दिल से आपका आभार

      Delete
  6. अयोध्या लौटे हैं वन से राजा राम ।
    दीपमालिका प्रज्ज्वलित अविराम ।

    दीपमालिका सी कविता ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया नूपुरं दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  7. उसी उल्लास का पर्व है दीवाली .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया प्रतिभा दीदी जी
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  8. खूबसूरत रचना👌👌

    ReplyDelete
  9. वाह लाजबाव सृजन
    ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  10. Replies
    1. आदरणीय विकेश भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete