Sunday, May 26, 2024

आभास

इश्क हुआ था जब चाँद से मैंने कहा था रात से l

हौले हौले चलना ढलना नहीं आज रात के लिए ll


चाँदनी इसकी मेरे प्रीतम का आभास हैं l

अक़्स में इसके बिछड़न की एक आवाज हैं ll


फ़रियाद हैँ मुझ जैसे इश्क लुटे फ़कीर की l

थाम ले अंगड़ाई ले करवटें बदलती साँसों की ll


ठहरी झिझकी सहमी तारों सजी रात सुन दरखास्त l

ठग मुस्करा चुपके से दे गयी पूर्ण चाँद को अर्ध आकर ll


अनसुनी कर मेरे बाबले मन की इश्क आगाज l

ढ़ल छुपा ले गयी संग अपने चाँद तारों की बारात ll

10 comments:

  1. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  2. अति सुन्दर !! मनमोहक सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      आपका उत्साहवर्धन ही मेरी कूची के रंगों की सुनहरी धुप की मीठी बारिश हैं, आशीर्वाद की पुँजी के लिए तहे दिल से नमन

      Delete
  3. चाँदनी इसकी मेरे प्रीतम का आभास हैं l

    अक़्स में इसके बिछड़न की एक आवाज हैं ll
    वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी
      आपका उत्साहवर्धन ही मेरी कूची के रंगों की सुनहरी धुप की मीठी बारिश हैं, आशीर्वाद की पुँजी के लिए तहे दिल से नमन

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय आलोक भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीय शिवम भाई साब
      सुंदर शब्दों से हौशला अफ़ज़ाई के लिए तहे दिल से धन्यवाद

      Delete