Sunday, September 12, 2010

गुमशुम

गुमशुम है परेशान है

दिल आज चुपचाप है

बात कुछ ख़ास है

दिल के बोल बंद आज है

मौन है मन उदास है

कहीं खो गया दिल आज है

विरह है या प्यार है

दिल का बुरा हाल है

ना जाने किसके लिए

दिल आज बेकरार है

No comments:

Post a Comment