Friday, December 3, 2010

इन्तजार

सदी गुजर गयी तुमको देखे हुए

रौशनी थक गयी आस निहारते हुए

अक्स दिखा चाँद के दीदार में

बाहें खुली है तेरे इन्तजार में

No comments:

Post a Comment