Wednesday, July 21, 2021

सकून

अजीब सा सकून था झोपड़े के उस खंडहर में l
बिछौने आँचल पसरा देती माँ रोता मैं जब डर के ll

सिरह जाता कौंधने बिजली कभी आधी रातों में l  
सीने से दुबका नींदों में सुला देते थे तब बाबा भी ll

एक अदद टूटी लालटेन ही रोशनी का सहारा थी l 
अँधियारे से लड़ती इसकी कमजोर लौ बेसहारा थी ll 

टपकती छत अँगीठी अक्सर बुझा जाती थी l
माँ फिर भी साँसे फूँक इसको सुलगा लाती थी ll 

मेरे लिए खाट जो बुनी थी बाबा ने अपनी धोती से l
थपकी की थाप लौरी की गूँज छाप दोनों थी उसमें ll

माँ की उस रसोई से भी दुलार ऐसा बरस आता था l 
सूखी रोटी नमक में भी मक्खन स्वाद का आता था ll   

मोहताज़ थी वो झोपड़ी खंडहर एक दरवाज़े के लिए l
फिर भी कोई कमी ना थी माँ बाबा के उस क्षत्रशाल में ll

महसूस हुई ना कभी कोई कमी इसकी धूप छाँव में l 
अजीब सा सकून था उस झोपड़े की दरों दीवार में ll 

मिल जाये वो ही सकून एक बार फिर से l 
रो दिया लिपट यादों की उस तस्वीर से ll 

17 comments:

  1. बहुत सुन्दर ह्रदय स्पर्शी सृजन - - शुभकामनाओं सह।

    ReplyDelete
  2. आदरणीय शांतनू भाई जी
    मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
    सादर

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. आदरणीय प्रसन्नवदन भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय शिवम् भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  6. अजीब सा सकून था झोपड़े के उस खंडहर में l
    बिछौने आँचल पसरा देती माँ रोता मैं जब डर के ll
    बहुत बढिया प्रिय मनोज जी | बचपन की सुहानी यादों को बहुत खूबसूरती से शब्दांकित किया है आपने |पूरी रचना विपन्नता पर प्रेम की जीत का आभास देती है | हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई आपको | आपके लेखन का माधुर्य बसबस बांध लेता है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया रेणु दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  7. मर्मस्पर्शी सृजन ,सच वो निस्वार्थ प्रेम अमूल्य है ।
    सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कुसुम दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  8. माँ बाबा की यादें ऐसे ही विह्वलित कर जाती हैं ।मर्मस्पर्शी रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया संगीता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  9. बहुत मार्मिक ह्रदय स्पर्शी रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक भाई साब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों के लिए आपको नमन

      Delete
  10. बहुत ही गहरे भाव!

    ReplyDelete