Tuesday, July 27, 2021

बूँदे

बारिश की उन बूँदों की भी अपनी कुछ ख्वाइशें थी l  
ओस बूँदों सी स्पर्श करुँ उसके गालोँ के तिल पास से ll  

मचली थी घटायें भी एक रोज मदहोशी शराब सी l
छू जाऊ बरस संगेमरमर की उस हसीन क़ायनात को ll 

पर चुपके से दबे पावँ बयार एक दौड़ी चली आयी l
संग अपने उड़ा बादलों को आसमाँ शून्य कर आयी ll 

आवारा हो गयी हसरतें बारिश आते आते इस मोड़ पर l  
बिखरा रंग गयी आसमां काले काले काजल की कोण से ll 

धुन लगी थी बूँदों को भी इसी उम्र बरस जाने की l
भींगी भींगी रातों में बाँहों के तन से लिपट जाने की ll    

आतुर थे छिछोरे बादल भीगने उस बरसात में l
घुँघरू बन सज जाने उन सुने सुने पावँ में ll

16 comments:

  1. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  2. बढ़िया लिखा है मनोज साहब। आपको बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय वीरेंद्र भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  3. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय नीतीश भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  4. बूंदों का बहुत ही सुन्दर मानवीकरण

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कविता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  5. भावों का सम्प्रेषण अच्छा है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया संगीता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  6. प्यारी सी मासूम सी ख्वाइशें, बूँदों की

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय गगन जी
      हौशला अफ़ज़ाई के लिए दिल से शुक्रिया
      सादर

      Delete
  7. मासूम ख्वाहिशों की चाहत कोबाखूबी लिखा है ...
    हर शेर लाजवाब और कमाल का है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिगम्बर भाई जी
      मेरी रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया
      सादर

      Delete
  8. बहुत खूब , बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक भाई साब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों के लिए आपको नमन

      Delete