Saturday, January 15, 2022

नया आयाम

अधरों पर अल्फाज़ मेरे थे पर ज़ज्बात तेरे थे l
अश्कों के दरिया में पर नयन दोनों के साथ थे ll

विरल थी तेरी वो अर्ध चाँद सी मासूम हँसी l
प्रेम ग्रहण लगा गयी जो इस नादाँ दिल को ll

महक रहा गुलाब सा यौवन गुल गुलशन सारा l
तेरे केशों साज में सजा जैसे वेणी गजरा सारा ll

ओढ़ ली जब आफताब ने चादर तेरे इश्क नाम की l
मुलाकातों के सायों में हमकदम भी एक साथ हो ll

मधुमास अंगार में जलती इसकी विरह चेतना l
रंग फूलों का गुलाब के इत्र सा महका रही जो ll

ख़ामोश सुर्ख लबों पर इश्क फ़साना लिख l
इबादत का नया आयाम दे गयी इस दिल को ll

16 comments:

  1. विरल थी तेरी वो अर्ध चाँद सी मासूम हँसी l
    प्रेम ग्रहण लगा गयी जो इस नादाँ दिल को ll
    गुलाब के फूलों सी कोमल और महकती हुई और बहुत ही खूबसूरत रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मनीषा दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-1-22) को पुस्तकों का अवसाद " (चर्चा अंक-4311)पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कामिनी दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  3. बहुत बहुत सुंदर सृजन।
    हृदय स्पर्शी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कुसुम दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  4. प्रिय मनोज जी, बहुत सुंदर भाव सृजन। लयात्मकता पर थोड़ा और काम किया जा सकता है। साधुवाद!--ब्रजेंद्रनाथ

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ब्रजेन्द्रनाथ जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया . आप सही कह रहे हो, कोशिश करूँगा
      आभार

      Delete
  5. Replies
    1. आदरणीय दीपक जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  6. विरल थी तेरी वो अर्ध चाँद सी मासूम हँसी l
    प्रेम ग्रहण लगा गयी जो इस नादाँ दिल को... बहुत ही सुंदर अनुज हृदयस्पर्शी भाव।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  7. बेहतरीन सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया भारती दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  8. गुलाब के इत्र-सा ... उम्दा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete