Wednesday, January 19, 2022

गुलदस्तां

गुलदस्तां हैं तू उन शबनमी गुलाबों का l
इश्क़ महके जिसके चुभते काँटों से भी ll

नाजुक कोमल पँखुड़ियों सा तेरा मासूम स्पर्श l 
छू रही मधुर चाँदनी जैसे कोई रसीला यौवन ll

महक रही पुरबाई बयार तेरी साँसों से ऐसे l
सुगंध तेरी मिल गयी इन धड़कनों से जैसे ll

कायनात तू इन रूमानी जज्बातों की l
जिस्म आफ़ताब रूहानी अंदाज़ों की ll

फरिश्ता तू उन मीठी चिलमन रातों की l 
डूबी रही सहर जिनके बंद गुलज़ारों की ll

सिमटी रहे सपनों सी इस निन्दियाँ गोद में l 
कैद करलूँ इन लम्हों को पलकों आगोश में ll 

32 comments:

  1. वाह! शानदार पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय नीतीश जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  2. Replies
    1. आदरणीय यशवंत भाई साहब जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार (२०-०१ -२०२२ ) को
    'नवजात अर्चियाँ'(चर्चा अंक-४३१५)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  4. बहुत सुंदर सराहनीय रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  5. बहुत बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक भाई साहब जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete

  6. फरिश्ता तू उन मीठी चिलमन रातों की l
    डूबी रही सहर जिनके बंद गुलज़ारों की,,,, बहुत सुंदर रचना,शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मधुलिका दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  7. बेहतरीन लेखन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अमृता दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  8. बहुत ही सुंदर😍💓

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मनीषा दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  9. सुंदर सराहनीय सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया भारती दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  10. उपमा और उपमेय का सार्थक निरूपण ! "कोमल पंखुडियो " और : रसीले यौवन " की दिलकश आवृत्ति की प्रस्तुति की है आपने ! साँसों से उभरती सुगन्ध का धड़कनो से सामंजस्य बहुत खूबसूरत उदगार बना है। " पलकों का आगोश " मरहबा ! मरहबा !! कहने को विवश कर देता है। बहुत ही खूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय विजय भैया
      अल्फाज़ कम हैं आपका शुक्रिया करने, आप की हौशला अफ़ज़ाई इसी तरह प्रेरित करती रहे और कलम मेरी सुन्दर शब्दों की माला पिरोती रहे
      सादर

      Delete
  11. श्रृंगार भावों से सुशोभित उम्दा अस्आर।
    सुंदर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कुसुम दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  12. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 24 जनवरी 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया दिव्या दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  13. बहुत खूब नज्‍़म लिखी मनोज जी,

    महक रही पुरबाई बयार तेरी साँसों से ऐसे ।
    सुगंध तेरी मिल गयी इन धड़कनों से जैसे।। वाह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अलकनंदा दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  14. खूबसूरत ग़ज़ल । रूमानी एहसास लिए हुए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया संगीता दीदी जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  15. शानदार ।हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय तुषार भाई साहब जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete
  16. बहुत खूब ...
    इश्क के बयार बह रही है इस नज़्म से ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिगंबर भाई साहब जी
      सुन्दर अल्फाजों से हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया

      Delete