Saturday, July 18, 2009

खुबसूरत

कोई रूप से खुबसूरत

तो कोई आँखों से खुबसूरत

पर मेरे यार मेरी जान

तुम हो दिल से खुबसूरत

कोई पहनावे से खुबसूरत

तो कोई खुली जुल्फों से खुबसूरत

पर मेरे यार मेरी जान

तुम हो अपनी सादगी से खुबसूरत

कोई कद से खुबसूरत

तो कोई ज्ञान से खुबसूरत

पर मेरे यार मेरी जान

तुम हो अपनी मधुर आवाज़ से खुबसूरत

कोई दौलत से खुबसूरत

तो कोई स्वभाव से खुबसूरत

पर मेरे यार मेरी जान

तुम हो नैसर्गीक खुबसूरत

No comments:

Post a Comment