Tuesday, August 4, 2009

ओ साथी

ओ साथी टहरो जरा , सुन लो जरा

फिर ऐ ना कहना हमने पुकारा नही

तुमको रोका नही

ओ साथी टहरो जरा , सुन लो जरा

फिर ऐ ना कहना क्यो सब कुछ भुला दिया

इकरार को इनकार क्यो कह दिया

ओ साथी टहरो जरा , सुन लो जरा

फिर ऐ ना कहना वफ़ा हमने की नही

वादा जो किया वो निभाया नही

ओ साथी टहरो जरा , सुन लो जरा

फिर ऐ ना कहना हमने रोका नही

बात दिल की तुम को बताई नही

ओ साथी टहरो जरा , सुन लो जरा

No comments:

Post a Comment