Saturday, November 27, 2010

छूना

चन्दा छू लू सूरज छू लू

छू लू धरती आकाश

छू ले जो तू इस दिल को

ना फिर छूऊं किसी ओर को

किसी भी सूरते हाल

No comments:

Post a Comment