Saturday, May 1, 2021

बेचैन पलकें

बेचैन रहती थी पलकें इस कदर l
अश्कों का कोई मोल नहीं था इस शहर ll

पर कटे परिंदों सा था ये हमसफ़र l
झुकी नज़रें बयाँ कर रही तन्हा यह सफ़र ll

मेहरम नहीं इनायत नहीं सुबह हो या रात भर l
फासला गहरा इतना दो पहर सागर के दो तरफ़ ll

आरज़ू मिली भटकती राह एक शाम इस शहर l
लिपट गयी सहम गयी ख़ुद से सहमी सहमी डगर ll

पगडंडियाँ से पटी थी बाजार की नहर l
निर्जन खड़ी थी जिजीविषा की लहर ll 

आहट एक समाई थी अंदर ही अंदर l
साये संग रूह की ना थी कोई खबर ll

रेखा हथेलियाँ बदलूँ एक रोज नए शहर l
फ़िलहाल ख़ामोश रहूँ कह रही पलकें संभल संभल ll 

 बेचैन रहती थी पलकें इस कदर l
अश्कों का कोई मोल नहीं था इस शहर ll

24 comments:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा रविवार ( 02-05-2021) को
    "कोरोना से खुद बचो, और बचाओ देश।" (चर्चा अंक- 4054)
    पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया मीना दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने एवं हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  2. Replies
    1. आदरणीय शिवम् जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete

    2. रेखा हथेलियाँ बदलूँ एक रोज नए शहर l
      फ़िलहाल ख़ामोश रहूँ कह रही पलकें संभल संभल ll
      बहुत ही सुन्दर...
      वाह!!!

      Delete
    3. आदरणीया सुधा दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  3. सुन्दर गजल, प्रभावशाली प्रस्तुति। ।।। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीय मनोज जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय पुरषोतम जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  4. पगडंडियाँ से पटी थी बाजार की नहर l
    निर्जन खड़ी थी जिजीविषा की लहर ll

    बेहतरीन ग़ज़ल ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया संगीता दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  5. खूबसूरत ग़ज़ल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय नीतीश जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  6. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ओंकार जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  7. आहट एक समाई थी अंदर ही अंदर l
    साये संग रूह की ना थी कोई खबर ll

    बेहद मार्मिक सृजन,सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कामिनी दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  8. बेहद उम्दा नज़्म ।

    ReplyDelete
  9. आदरणीया अमृता दीदी जी
    हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
    सादर
    मनोज

    ReplyDelete
  10. एक लाजवाब गज़ल,हर शेर उम्दा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया जिज्ञासा दीदी जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  11. Replies
    1. आदरणीय विकास जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete
  12. गहरे अर्थपूर्ण शेर हैं सभी ...
    अच्छी गज़ल ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिगम्बर जी
      हौशला अफ़ज़ाई के तहे दिल से शुक्रिया
      सादर
      मनोज

      Delete