Sunday, September 12, 2021

सहर

उनींदी आँखों लिखने बैठा तेरी सहर की कली l 
नज़्म ढलती गयी खुद ही नज़र की इस कली ll

जादू कर गयी तेरे ताबीज़ की वो कच्ची डोरी l
बंधी थी जिससे तेरे संग मेरे रूह की डोरी ll  

सुन तेरे पाक इबादत के नूरों को इस घड़ी l
सिमट मिटते गयी हर फासलों की ये घड़ी ll

ओश शोखियाँ सी इठलाती नाज़ुक तू तितली l 
शिकायतें जो उड़ा ले गयी ग़ज़ल की इस गली ll

खुमारी लगी दिल्लगी एक मासूम सी कली l
तालीम आलम छा गयी पलकों पे दिलकशी ll  

रंगत बरस रही लफ्जों से अजान सी मीठी l
खोये अल्फ़ाज़ों से जुड़ गयी लबों की खुशी ll

लिखने बैठा तेरी सहर सफर की इस गली l
उनींदी आँखे खुली तेरे ही नयनों की गली ll

10 comments:

  1. उनींदी नहीं होना चाहिए क्या? सुन्दर सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साहब
      मेरी रचना को शुद्ध करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद, अभी इसे सही करता हूँ, आगे भी इसी तरह मार्गदर्शन करते रहे l
      सादर

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 13 सितम्बर 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया यशोदा दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  3. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (14-9-21) को "हिन्द की शान है हिन्दी हिंदी"(4187) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा






    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कामिनी दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  4. रंगत बरस रही लफ्जों से अजान सी मीठी l
    खोये अल्फ़ाज़ों से जुड़ गयी लबों की खुशी ll

    लिखने बैठा तेरी सहर सफर की इस गली l
    उनींदी आँखे खुली तेरे ही नयनों की गली ll गहनतम

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय संदीप भाई साब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों के लिए आपको नमन

      Delete
  5. वाह!बहुत सुंदर अनुज।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया अनीता दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौशला अफजाई के लिए तहे दिल से आपका आभार

      Delete