Tuesday, September 7, 2021

वजूद

ज़िक्र एक उसका ही था मेरे जनाजे में l
सौदा दिल से कफ़न का कर आयी थी जो ll

सौगात आँसुओं को मिट्टी के दे आयी थी जो l
तालुक उस पर्दानशीं से इस काफिर का ना हो ll

कोई मीठा झोंका थी या किसी फरेब का साया l
हसीन सी दास्तां थी उसकी नज़रों का साया ll

उधार थी क़िश्तें बहुत उस नूर शबनम की l
महरूम थी उसकी एक झलक से मेरी काया ll

तकरीर रंगीन थी उसके ताबीज़ के गुल से l
तहरीर सजी थी जैसे उसके जन्नत गुल से ll

मशरूफ रूह उस खाब्ब में खोई थी इस कदर l
निगाहें शगुन पैमाना बन गयी थी उस वक़त ll

फक्कत वो ऐसी गहरी नींद सुला गयी मुझको l
वजूद काया ताबूत में सिमटा गयी मुझको ll

14 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 08 सितम्बर 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया
      यशोदा दीदी जी
      मेरी रचना को अपना मंच प्रदान करने के लिये तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ l
      आभार

      Delete
  2. गजब , शानदार लेखन हर शेर हृदय स्पर्शी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कुसुम दीदी जी

      सुन्दर शब्दों से हौशला अफजाई के लिए तहे दिल से आपका आभार
      सादर

      Delete
  3. उधार थी क़िश्तें बहुत उस नूर शबनम की l
    महरूम थी उसकी एक झलक से मेरी काया ll
    बहुत ही सुन्दर.... हृदयस्पर्शी सृजन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया सुधा दीदी जी

      सुन्दर शब्दों से हौशला अफजाई के लिए तहे दिल से आपका आभार
      सादर

      Delete
  4. Replies
    1. आदरणीय सुशील भाई साब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों के लिए आपको नमन

      Delete
  5. बहुत सुन्दर बहुत सराहनीय | शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय आलोक भाई साब
      सुन्दर प्रेरणादायक शब्दों के लिए आपको नमन

      Delete
  6. Replies
    1. आदरणीया उषा दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौशला अफजाई के लिए तहे दिल से आपका आभार
      सादर

      Delete
  7. कोई मीठा झोंका थी या किसी फरेब का साया l
    हसीन सी दास्तां थी उसकी नज़रों का साया ll

    उधार थी क़िश्तें बहुत उस नूर शबनम की l
    महरूम थी उसकी एक झलक से मेरी काया ll


    बहुत खूब!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया कविता दीदी जी
      सुन्दर शब्दों से हौशला अफजाई के लिए तहे दिल से आपका आभार
      सादर

      Delete