Saturday, July 18, 2009

कहानी

प्यार में दिलो की बात

लफ्जों की माला बन

लबों पे चली आयी

जिससे खुद थे बेखबर

उसे सारी जग जान गयी

दिलो के तरानो में

मोहब्बत की बहार चली आयी

अपने भी प्यार के किस्सों की

एक कहनी बन आयी

No comments:

Post a Comment