Wednesday, August 5, 2009

मदहोश

साकी तुमने जम के जाम छलकाए

पयमाने खाली हो गए

मगर ऐ साकी मदहोश हो ना पाये

सरूर सर चढ़ ना पाया

गरूर टूट ना पाया

तेरी मदहोश भरी आगोश में

दुनिया भुला ना पाए

ये साकी तुझे लवो से जुदा ना कर पाये

यमाने टूट ते रहे

छलकते जाम में डूबते रहे

पर ये साकी तुझको

जिन्दगी से जुदा ना कर पाये

No comments:

Post a Comment