Monday, August 17, 2009

दिल पुकारे

ये दिल पुकारे , तू चली आ

ये लगी बुझाजा , प्रेम अगन जलाजा

तेरे प्यार की मस्ती से , दिल लुभा जा

तू चली आ , तू चली आ

ये दिल पुकारे , तू चली आ

बेकरारी ओर ना बड़ा , ओर ना अब तड़पा

सितम ओर ना कर , कहना मेरा मान भी ले

चली आ चली आ , दिल पुकारे तू चली आ

दौड़ी चली आ , दौड़ी चली आ

ये दिल पुकारे , तू चली आ

No comments:

Post a Comment