Saturday, May 1, 2010

साईं राम

ओ मालिक सुनता है तू सब की फ़रियाद

करता है सबकी नैया पार

अर्ज करता हु मैं भी साईं राम

आया हु तेरी शरण आज

रख दो मेरे सर पे हाथ

करलो मुझको भी अपने भक्तों में शुमार

ओ मेरे साईं राम

करलो मेरी आराधना के फूल स्वीकार

पुकार रहा है भक्त नादान

चले आओ ओ मेरे राम

ओ साईं राम मेरे साईं राम

No comments:

Post a Comment