Monday, May 24, 2010

ग़मों का सौदा

मुस्कान के बदले हम तो

ग़मों का सौदा करते है

लोगो को मुस्कराते देख

अपने गम भूल जाते है

ओर खिलखिलाते हुए

उनकी खुशियों में शरीक हो जाते है

No comments:

Post a Comment