Friday, September 1, 2017

उम्र की चाबी

उम्र तो जिंदगी की दहलीज़ का बस एक पैमाना हैं

जिन्दा रहने को साँसें भी एक बहाना हैं

संघर्ष ही इसके अंदाज का आशियाना हैं

लुफ्त तभी हैं इसे जीने का

कारवाँ बेशक गुज़र जाये उम्र का

पर बचपन आगे और बुढ़ापा पीछे चलने की क़वायद सारी हैं

राहगुजर के इस पड़ाव में

उम्र का यह अपना ही हसीन फ़साना हैं

वैराग्य के इस राग में छिपे

जिंदगी के राज

बड़े मतवाले आशिक़ हैं

गुज़र गयी जो

वो तो बस एक कहानी हैं

उम्र तो बस साँसों की गुजारिश हैं

ग़ौर ना फरमाइये उम्र के पहलू पर

जब तलक दिल से जीने की ललक बाकी हैं

उम्र के तिल्सिम पिटारे की

बस यही एक चाबी हैं


1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (03-09-2017) को "वक़्त के साथ दौड़ता..वक़्त" (चर्चा अंक 2716) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete