Thursday, September 7, 2017

कर्मों के फल

अंतर्नाद का नाद हैं ये

ख़ुद से संघर्ष का रणभेदी आगाज़ हैं ये

पल प्रतिपल बदलते विचारों में

सामंजस्य पिरोने का सरोकार हैं ये

महा समर के चक्रव्ह्यु का

यह तो एक अध्याय हैं बस

संयम साधना ब्रह्मास्त्र ही

एकमात्र इस पहेली का राज हैं बस  

तपोबल ज्ञान से इसके

लक्ष्य दूर नहीं होगा तब

दृष्टि भ्रम से जब विचलित ना हो पायेगा मन

इसके एकांतित ध्यान केंद्र में ही

समुचित हैं सब आस्था के फल

सब आस्था के फल

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-09-2017) को "कैसा हुआ समाज" (चर्चा अंक 2722) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete