Wednesday, August 5, 2009

अकेला

खता क्या हुई

किनारा तुम ने कर लिया

नाता हम से तोड़ लिया

गुनहा क्या हुआ

नजरे मिलाना छोड़ दिया

हमें देख मुस्कराना छोड़ दिया

भूल क्या हुई

प्यार करना छोड़ दिया

हमें मरने के लिए अकेला छोड़ दिया

No comments:

Post a Comment