Saturday, August 8, 2009

बर्षा आयी

बर्षा आयी बर्षा आयी

शीतल ठंडी फुहार संग लायी

फूल खिले कलिया मुस्काई

फसल फिर लहलहाई

देख मन खुशिया छाई

बर्षा आयी बर्षा आयी

देख मन उमंग छाई

रिम झिम करता संगीत लायी

जीवन कण कण में जीने की आस जगायी

बर्षा आयी बर्षा आयी

शीतल ठंडी फुहार संग लायी

No comments:

Post a Comment