Wednesday, November 25, 2009

बेरहम

अगर समझ जाते सचाई

तो खुदा ना बन जाते

पी लेते अमरत्व

तो अमर ना हो जाते

जो पा लेते तुझे

तो मंजनू ना बन जाते

मिल गया होता प्यार यदि

तो बेरहम ना कहलाते

No comments:

Post a Comment