Tuesday, November 24, 2009

सौतन

सौतन का पता हम को चल गया

ख़त से पता उनका मिल गया

लाख छिपाओ मगर हमको पता चल गया

छुप छुप मिलने का राज खुल गया

तस्वीरों में उनका चेहरा मिल गया

बाकी अब कुछ ना बचा

जो था वो फ़ोन से खुल गया

No comments:

Post a Comment