Wednesday, November 25, 2009

बरबस

खोके तुम्हे ये अहसास हुआ

दर्द जुदाई का क्या होता है

ये मुझको अहसास हुआ

बरबस ही दिल रो पड़ता है

तुमको कभी ना भूल सकता है

पास रहे तब कदर ना जानी

छोड़ चले गए तब ये समझ आई

नादानी हमसे हुई

तेरे सच्चे प्यार का पहचान ना सके

No comments:

Post a Comment