Tuesday, November 24, 2009

कल्पना की उड़ान

कल्पना की उड़ान स्वछंद हो

ना किसी से तकरार हो

ना विचारो का टकराव हो

मुक्त गगन उड़े ऊँची उड़ान हो

सुंदर स्वप्निल कल्पना साकार हो

प्यार बसे जिसमे सबका

वो सपना साकार हो

No comments:

Post a Comment